Cyclone Nisarga : महाराष्ट्र के तट पर पहुंचा भीषण चक्रवाती तूफान निसर्ग, भारी बारिश की संभावना !

न्यूज़ पैंट्री डेस्क: चक्रवात ‘निसर्ग’ बुधवार को दोपहर में महाराष्ट्र के तटों से टकराया. इस बीच, कई स्थानों पर बारिश और तेज हवाएं चलने की खबरें आ रही हैं. खबरों के मुताबिक, एनडीआरएफ प्रमुख एस एन चैधरी ने कहा कि चक्रवाती तूफान निसर्ग बुधवार दोपहर मुंबई से 100 किलोमीटर दूर अलीबाग के पास लैंडफॉल हुआ. इसके मद्देनजर एहतियाती कदम उठाते हुए मौके पर एनडीआरएफ की टीमें मौजूद हैं और लोगों को राहत शिविरों में शिफ्ट किया गया है. इसके अलावा गुजरात और महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की तकरीबन 43 टीमें तैनात की गई हैं, जिसमें से 21 टीमें महाराष्ट्र में हैं. जानकारी के लिए बता दें कि साइक्लोन वाली जगहों से तकरीबन 1 लाख लोगों को बाहर निकाला गया है.

सदी में पहला चक्रवाती ऐसा तूफान जो महाराष्ट्र के तट से टकराया

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने मंगलवार देर रात आदेश जारी करके, स्थानीय लोगों को समुद्र तट, पार्क जैसे सार्वजनिक स्थानों के साथ मुंबई तटीय रेखा पर सैर सपाटा करने पर प्रतिबंध लगा रखा है. इसके अलावा वहां धारा 144 लागू है. मौसम विभाग के मुताबिक, ‘निसर्ग’ तूफान के प्रभाव से अगले 12 घंटों में 100 से 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने और भारी बारिश के अलावा भूस्खलन भी हो सकता है. मौसम विभाग के मुताबिक बीती एक सदी में ये पहला चक्रवाती तूफान है जो महाराष्ट्र के तट से टकराया. इससे पहले 1948 और 1980 में दो बार चक्रवाती तूफान उठा था लेकिन वो तट से नहीं टकराया, समुद्र में ही कमजोर पड़ गया था.

निसर्ग तूफान की वजह से ट्रेनों के मार्गों और समय में हुआ बदला

तूफान निसर्ग के खतरे को देखते हुए, मध्य रेलवे ने मुंबई से कुछ ट्रेनों के मार्गों को बदला और कुछ के समय में परिवर्तन किया है. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, मध्य रेलवे ने मुम्बई से चलने वाली 5 विशेष ट्रनों का समय बदला गया है और तीन विशेष ट्रेनों के मार्ग को बदला जाएगा. बदलाव के बाद एलटीटी- गोरखपुर स्पेशल अब सुबह 11 बजकर 10 मिनट की बजाय रात आठ बजे रवाना होगी. एलटीटी- तिरुवनंतपुरम स्पेशल सुबह 11 बजकर 40 की बजाय शाम छह बजे और एलटीटी-दरभंगा स्पेशल दोपहर सवा 12 की बजाय रात साढ़े आठ बजे रवाना होगी.

पीएम मोदी ने दिया आश्वासन

गौरतलब है कि महाराष्ट्र और गुजरात ने आपदा से मुकाबले के लिए एनडीआरएफ के दलों को तैनात कर दिया है . कोविड-19 महामारी के संकट से पहले से जूझ रहे दोनों पश्चिमी राज्यों ने चक्रवात से मुकाबले के लिए पहले से कमर कस लिया है. पीएम मोदी ने मंगलवार को इन दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर उन्हें केंद्र द्वारा हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया था.

Spread the love