‘LG साहब ने आदेश तो पलट दिया लेकिन केस बढ़ेंगे तो दिल्ली वाले इलाज कराने कहां जाएंगे’

न्यूज पैंट्री डेस्क : राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस का खतरा बहुत तेजी से बढ़ रहा है. रोजाना रिकॉर्ड संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं. इस बीच केजरीवाल सरकार और उप राज्यपाल के बीच खींचतान शुरू हो गई है. उप राज्यपाल अनिल बैजल ने राज्य सरकार के दो आदेशों को पलट दिया है. सीएम केजरीवाल ने इस पर कड़ी प्रतक्रिया जताई थी.

मंगलवार को दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ बैठक की थी. इसके बाद मनीष सिसौदिया ने प्रेस वार्ता में पत्रकारों के सवालों के जवाब दिए. इस दौरान सिसौदिया ने दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सिर्फ़ दिल्ली के लोगों के इलाज के फ़ैसले को उप-राज्यपाल द्वारा पलटे जाने का भी ज़िक्र किया.


मनीष सिसौदिया का एलजी पर निशाना

मनीष सिसौदिया ने कहा, “एलजी साहब से पूछा गया कि दिल्ली में कोरोना के कितने केस बढ़ेंगे और कितने बेड्स की जरूरत होगी तो उनको इसका कोई आइडिया नहीं था. ऐसे में एलजी साहब ने जो फ़ैसला लिया है उससे दिल्ली के लोगों के लिए संकट पैदा हो गया है. इस मुद्दे को एलजी साहब के सामने उठाया गया लेकिन उन्होंने इस पर कुछ नहीं किया. अगर कोरोना संक्रमण के केस इसी तरह से बढ़ते हैं तो दिल्ली वाले इलाज के लिए कहां जाएंगे.”

इसे भी पढ़ें- बुरी खबर ! 31 जुलाई तक दिल्ली में होंगे 5.5 लाख कोरोना मरीज

दरअसल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से रविवार को कहा था कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार के सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों मेंं अब सिर्फ दिल्ली वाले ही इलाज करा सकेंगे. हालांकि, दिल्ली में केंद्र सरकार के जितने भी अस्पताल हैं उनमें देश का कोई भी नागरिक इलाज करा सकता है. मुख्यमंत्री ने कहा था कि अगर सभी अस्पतालों को खोल दिया जाएगा तो तीन दिन में सभी बेड्स भर जाएंगे और दिल्ली वालों को इलाज नहीं मिल पाएगा. उप राज्यपाल ने सोमवार को इस आदेश को पलट दिया था. उन्होंने कहा कि दिल्ली के सभी अस्पतालों में कोई भी नागरिक इलाज करा सकता है.

Spread the love