योगी सरकार ने प्रियंका गांधी का प्रस्ताव मान लिया, मजदूरों के लिए मांगी 1 हजार बसों की लिस्ट

न्यूज पैंट्री डेस्क : लॉकडाउन में पैदल घर जा रहे प्रवासी मजदूरों के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से 1 हजार बसें चलाने की अनुमित मांगी थी. प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कांग्रेस की ओर से बसें चलाने का प्रस्ताव दिया था. प्रियंका गांधी ने कहा था कि इन 1 हजार बसों को चलाने का सारा खर्चा कांग्रेस पार्टी उठाएगी. योगी सरकार ने उनकी इस मांग को स्वीकार कर लिया है. साथ ही सरकार ने कांग्रेस से एक हजार बसों की लिस्ट मांगी है.

उत्तर प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने प्रियंका गांधी के प्रस्ताव को स्वीकार किया है. इसके लिए उन्होंने प्रियंका गांधी के निजी सचिव को एक पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया है कि प्रवासी मजदूरों के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के प्रस्ताव को कबूल किया जा रहा है. आगे की प्रक्रिया के लिए आप इन बसों की सूची, ड्राइवर और कंडक्टर का नाम व अन्य जानकारी उपलब्ध कराएं ताकि इनका उपयोग प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए किया जा सके.

प्रियंका गांधी ने CM योगी को लिखा था पत्र

बता दें कि औरैया सड़क हादसे के एक दिन बाद प्रियंका गांधी ने योगी सरकार से 1 हजार बसें चलाने की अनुमति मांगी थी. उन्होंने इसके लिए ट्विटर पर एक वीडियो संदेश जारी किया था. उन्होंने कहा था कि यूपी की सीमा पर प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए कांग्रेस की 1 हजार बसें तैयार हैं. सरकार को इन बसों को चलाने की अनुमित दे देनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें – राहुल गांधी ने प्रवासी मजदूरों के साथ बैठकर बात की तो निर्मला सीतारमण भड़क गईं

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने प्रियंका गांधी के इस प्रस्ताव पर पलटवार किया था. उन्होंने इस बहाने प्रियंका गांधी पर राजनीति करने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि प्रियंका गांधी यूपी की सीमा पर बसें भेजने की बात कह रही हैं लेकिन उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश से जा नहीं रहे हैं बल्कि यहां आ रहे हैं. अगर उन्हें बसें भेजनी ही हैं तो कांग्रेस शासित राज्य पंजाब और महाराष्ट्र में भेजें क्योंकि इन्हीं दो राज्यों से ही सबसे ज्यादा मजदूर पलायन कर रहे हैं.

Spread the love