CBSE की 10th और 12th की बोर्ड परीक्षाएं रद्द, सभी छात्र होंगे पास

न्यूज पैंट्री डेस्क : सीबीएसई 10वीं और 12वीं की परीक्षाएँ नहीं लेगा. ये परीक्षाएँ 1 से 15 जुलाई के बीच होने वाली थीं. सॉलिसिटर जनरल ने सुप्रीम कोर्ट में यह बात गुरुवार को बताई है. उन्होंने बताया कि दिल्ली, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे राज्यों ने परीक्षाएँ करवाने में असमर्थता ज़ाहिर की है.

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में 12वीं की प्रस्तावित परीक्षा पर रोक लगाने को लेकर सुनवाई हुई जिसमें सॉलिसिटर जनरल ने बताया कि बोर्ड ने ये परीक्षाएँ रद्द कर दी है. लॉकडाउन से पहले सीबीएसई की 10वीं और 12वीं के कुछ विषयों की परीक्षा हो चुकी थी, लेकिन जब कोरोनावायरस का संक्रमण बढ़ा, तो देश में सभी परीक्षाएँ रद्द कर दी गईं थीं.

इंटरनल के आधार पर पास होंगे छात्र

CBSE के कुल 71 विषयों की परीक्षा भी हो चुकी थीं और अब बचे हुए 29 विषयों की परीक्षा जुलाई के महीने में 1 से 15 तारीख़ के बीच होने वाली थी. इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. याचिकाकर्ता की ओर से वकील ऋषी मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच के सामने पेश हुए. तीन जजों की बेंच की अध्यक्षता जस्टिस एएम खनविलकार कर रहे थे.

ऋषी मल्होत्रा ने कोर्ट से सामने कहा कि महाराष्ट्र, दिल्ली और ओडिशा ने कोरोना की वजह से परीक्षाएँ करवाने में अपनी असमर्थता जताई है. सुप्रीम कोर्ट ने जब सॉलिसिटर जनरल से पूछा कि क्या बोर्ड 12वीं के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकने के आधार पर अंक देने या फिर बाद में परीक्षा में बैठने का विकल्प दे रहा है. तो इस पर सॉलिसिटर जनरल ने हामी भरी और बताया कि 12वीं के छात्रों के पास ये विकल्प होंगे.

10th के छात्रों को नहीं देने होंगे एग्जाम

उन्होंने बताया कि 10वीं के छात्रों को कोई परीक्षा नहीं देनी होगी. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि जैसे ही परिस्थितियां अनुकूल होंगी वैसे ही बोर्ड उन छात्रों के लिए 12वीं की परीक्षा लेगा जो परीक्षा देने का विकल्प चुनेंगे. याचिकाकर्ता के वकील ऋषी मल्होत्रा ने कहा कि जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी परिणाम की घोषणा की जा सकती है. इस महीने हो तो बेहतर है.

दूसरी ओर आईसीएसई ने भी अपने 10वीं और 12वीं की परीक्षाएँ रद्द कर दिए हैं. हालांकि सीबीएसई की तरह वो बाद में परीक्षा देने के विकल्प पर सहमत नहीं है. दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री ने इस पर ट्वीट किया है, “मैंने कुछ दिन पहले मानव संसाधन मंत्री श्री @DrRPNishank को पत्र लिख कर अनुरोध किया था कि 10वीं 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं न रखी जाएं, और internal assessments के आधार पर बच्चों को पास किया जाए. खुशी है कि आज देश भर के बच्चों के हित में फ़ैसला हुआ, और अभिभावकों को राहत मिली.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *