‘कोरोना वायरस का सबसे बुरा दौर आना अभी बाकी है’

न्यूज पैंट्री डेस्क : कोरोना वायरस की आंधी थमने का नाम नहीं ले रही है. हालात ऐसे हो गए हैं कि हर दिन पहले से कहीं ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं. इस वैश्विक महामारी ने अब नए देशों में तबाही मचाना शुरू कर दिया है. कुछ वक्त पहले तक कोरोना ने यूरोप में जो बर्बादी की वो अब ब्राजील, रूस और भारत जैसे देशों में शुरू हो गई है. अमेरिका में अभी भी हालात काबू नहीं हो पा रहे हैं.

ताजा आंकड़ों के मुताबिक दुनिया भर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 1 करोड़ को पार कर गई है. सिर्फ छह महीने के अंदर ही इस महामारी ने पांच लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है. कई देशों में स्वास्थ्य सुविधाएं पूरी तरह चरमरा गई हैं. अर्थव्यवस्था के तो परखच्चे उड़ गए हैं और करोड़ों लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है.

सबसे बुरा दौर आना बाकी

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्लूएचओ का कहना है कि अभी भी इस महामारी का सबसे बुरा दौर नहीं आया है. इसका मतलब है कि अभी तक जो हुआ है, वो सिर्फ बुरे दौर की आहट थी. दरअसल, कई देशों में संक्रमण के मामलों में कमी आई है. इसे देखते हुए कहा जा रहा है कि शायद अब महामारी का बुरा दौर बीत चुका है लेकिन डब्लूएचओ ने चेताया है कि अभी सबसे बुरी स्थिति आने वाली है.

इसे भी पढ़ें- कोरोना वायरस की सबसे बड़ी खुशखबरी जिसका दुनिया को बेसब्री से इंतजार है!

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडहनॉम गिब्रयेसॉस ने कहा है कि अगर दुनिया भर की सरकारों ने सही नीतियों का पालन नहीं किया तो ये वायरस और लोगों को संक्रमित कर सकता है. टेड्रोस ने कहा, “हम सभी चाहते हैं कि ये सब खत्म हो जाए. हम सभी अपनी रोजमर्रा की जिंदगियों में वापस लौटना चाहते हैं. लेकिन कड़वा सच ये है कि हम अभी भी इस महामारी के खत्म होने से बेहद दूर हैं.”

महामारी विकराल क्यों होती जा रही है?

टेड्रोस ने आगे कहा, “कुछ देशों ने प्रगति की है लेकिन वैश्विक स्तर पर महामारी फैलने की रफ़्तार तेज हो रही है. दुनिया भर में 1 करोड़ संक्रमण के मामले और पांच लाख लोगों की मौत हो चुकी है. ऐसे में हमें उन समस्याओं को सुलझाने की जरूरत है, जिनकी पहचान हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन में की है.”

इसे भी पढ़ें- कोरोना के 3 नए लक्षणों की हुई पहचान, जानिए क्या हैं वो लक्षण

राष्ट्रीय एकता में कमी, वैश्विक एकजुटता में कमी, और बंटी हुई दुनिया, ये कुछ कारण हैं जो वायरस को फैलने में मदद कर रहे हैं. ऐसा ही चलता रहा तो बुरा समय अभी आना बाकी है. टेड्रोस ने सरकारों से जर्मनी, दक्षिण कोरिया, और जापान के रास्ते पर चलने का आग्रह किया. इसमें इन देशों की ओर से की जा रही लगातार टेस्टिंग और ट्रेसिंग शामिल है.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *