कोरोना के इलाज के लिए आ गई दवाई, 103 रुपये में मिलेगी एक गोली

न्यूज पैंट्री डेस्क : भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एक राहत भरी खबर आई है. मुंबई की दवा बनाने वाली कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों का इलाज करने के लिए दवा को लांच किया है. मामूली रूप से पीड़ित मरीज का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली इस एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया है.

ग्लेनमार्क कंपनी की ओर से शनिवार को इसकी जानकारी सार्वजनिक की गई. कंपनी ने कहा कि भारतीय औषधि महानियंत्रण (डीजीसीआई) ने इस दवा को बनाने और बेचने की अनुमति दे दी है. भारत में दवाओं का निर्माण और मार्केटिंग पर डीजीसीाई का ही नियंत्रण होता है.

 

बाजार में जल्द होगी उपलब्ध

कंपनी ने कहा है कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज का इलाज करने के लिए फेविपिराविर दवा को मंजूरी दी गई है. ग्लेमार्क फार्मास्युटिल्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ग्लेन सल्दान्हा ने इस बारे में विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘इस दवा को ऐसे वक्त में मंजूरी मिली है जबकि भारत में कोरोना वायरस के मामले पहले की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ रहे हैं. इसकी वजह से देश का हेल्थ सिस्टम काफी दबाव में है.’ 

इसे भी पढ़ें – पिछले 24 घंटे में सामने आए साढ़े 14 हजार से ज्यादा मामले

सल्दान्हा ने कहा कि फैबिफ्लू का कोरोना के हल्के लक्षणों वाले मरीजों पर क्लिनिकल परीक्षण किया गया था. इस दौरान काफी अच्छे रिजल्ट प्राप्त हुए. खास बात यह कि फैबिफ्लू खाने वाली दवा है. आमतौर पर बीमारियों के इलाज के लिए खाने वाली दवाएं ज्यादा सुविधाजनक होती हैं.


कैसी होगी खुराक

इस दवा को लोगों तक पहुंचाने के लिए ग्लेनमार्क कंपनी कंपनी सरकार और चिकित्सा समुदाय के साथ मिलकर काम करेगी. देश भर में आसानी से दवा को उपलब्ध कराने के लिए साझा प्रयास करने की जरूरत है. देश भर के बाजारों में इसकी एक टेबलेट 103 रुपये में मिलेगी लेकिन डॉक्टर की सलाह पर ही इसे लेना होगा.

इसे भी पढ़ें – कोरोना मरीजों को लेकर केजरीवाल सरकार और एलजी फिर आमने-सामने

कोरोना से पीड़ित मरीजों को पहले दिन इस दवा की 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होंगी. इसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी. खास बात यह है कि अगर कोरोना पॉजिटिव मरीज पहले से ही डायबिटीज और दिल की बीमारी से पीड़ित है, उसे भी यह दवा दी जा सकती है.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *