सिर्फ 20 सेकेंड में डीप-एक्स डिवाइस बता देगी कि व्यक्ति कोरोना का मरीज है या नहीं, जानिए अन्य फीचर

न्यूज़ पैंट्री डेस्क: एक ओर जहां कोरोना महामारी की वजह से दुनियाभर के लोग हताश और निराश है. तो वही दूसरी ओर इससे जुड़ी राहत भरी खबर आई है. दरअसल केमोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एमएनएनआइटी) प्रयागराज द्वारा विकसित डीप-एक्स डिवाइस 20 सेकेंड में बता देगी कि कोई व्यक्ति कोरोना से पीड़ित है या नहीं. इसके अलावा एमएनएनआइटी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग ने टेम्प्रेचर डिटेक्टर और कोरोना के मरीज में ऑक्सीजन की कमी होने की सूचना देने वाला पल्स ऑक्सीमीटर भी बनाया है.

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, प्रोजेक्ट्स से जुड़े वैज्ञानिकों ने बताया कि एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे या इस तरह के किसी भी एंट्री-एक्जिट प्वाइंट पर इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है. डीप-एक्स पोर्टेबल उपकरण इससे होकर गुजरने वाले व्यक्तियों में से संदिग्ध को तत्काल पहचान करने में सफल है. बता दें कि वैज्ञानिकों ने डीप लर्निंग एल्गोरिदम (गहन गणनाओं) के जरिए यह सॉफ्टवेयर तैयार किया है, जिसे पोर्टेबल एक्स-रे स्कैनर से कनेक्ट कर इस तरह की सूक्ष्म जांच में सक्षम बनाया गया है.

गौरतलब है कि सॉफ्टवेयर में कोरोना संक्रमण से ग्रस्त विभिन्न लोगों के फेफड़ों की एक्सरे फोटो अपलोड की गई हैं. पोर्टेबल एक्स-रे मशीन से जुड़कर यह सॉफ्टवेयर किसी व्यक्ति के फेफड़े को स्कैन कर उसका पहले से अपलोड की गई एक्स-रे तस्वीरों से मैच करता है. कोविड-19 संक्रमण पाए जाने पर रिपोर्ट तत्काल दे देता है. इस पूरी प्रक्रिया में महज 20 सेकेंड का समय लगता है. यानी इस उपकरण के सामने आते ही तुरंत पता चल जाता है कि व्यक्ति का फेफड़ा संक्रमण से प्रभावित है या नहीं.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *