कोरोना मरीजों को ठीक करने के लिए भारत में इस दवा को मिली मंजूरी, कई देशों में पहले से हो रहा इस्तेमाल

न्यूज़ पैंट्री डेस्क: देश में कोरोना के मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या पर रोकथाम करने के लिए केंद्र सरकार ने रेमेडिसिविर दवा के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. हालांकि इस दवा को आपातकालीन स्थिति में इस्तेमाल करने की इजाजत दी गई है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस दवा का इस्तेमाल अमेरिका और जापान में पहले से ही इस्तेमाल किया जा रहा है.

अमेरिका, जापान में हो रहा इस्तेमाल

बता दें कि अमेरिकी बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी गिलियड साइंसेज (Gilead Sciences) ने कोरोना वायरस का उपचार करने वाली एंटीवायरल मेडिसिन (Antiviral medicine ) मई बनाई थी. इसे रेमेडिसविर दवा नाम दिया गया था. मनुष्यों पर परीक्षण में दवा के पास हो जाने पर अमेरिकी सरकार ने सबसे पहले इसके इस्तेमाल की मंजूरी दी थी. इसके अलावा जापान ने भी इस दवा की इस्तेमाल करने की मंजूरी दी थी. मौजूदा वक्त में भी इन दोनों ही देशों में दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है.

भारत सरकार ने भी ‘रेमेडिसविर दवा’ के इस्तेमाल को दी मंजूरी

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक अब भारत सरकार ने कोरोना मरीजों को ठीक करने के लिए रेमेडिसविर दवा के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. हालांकि भारत में इस दवा का इस्तेमाल इमर्जेंसी केस में किया जाएगा. कोरोना के मरीज को इस दवा के 5 डोज दिए जाएंगे. अतः यह साफ हो गया है कि इस दवा के द्वारा कोरोना के मरीजों को ठीक करने में मदद मिलेगी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका और जापान करीब एक महीने से इस दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं. दोनों देशों में दवा के अच्छे परिणाम सामने आए हैं.

अमेरिका ने कहा कोरोना की एकमात्र दवा

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार गिलियड साइंसेज की दवा को लेकर अमेरिका के वरिष्ठ संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर एंथोनी फॉसी ने मई माह में ही कहा था कि ‘रेमेडिसविर दवा’ कोरोना वायरस को खत्म करने वाली एकमात्र दवा है. इस दवा को परीक्षण करने के बाद इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है.

Spread the love