Corona: भारत को अमेरिका जैसी सुनामी से बचना है तो WHO की यह सलाह सुननी चाहिए

न्यूज पैंट्री डेस्क : भारत में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी देखने को मिल रही है. पिछले कई दिनों से देश में हर रोज 5 हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. साथ ही सैकड़ों लोगों की जान भी जा रही है. देश में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या सवा लाख को पार कर चुकी है. इसी के साथ भारत दुनिया के उन चार देशों में शामिल हो गया है जहां कोविड-19 संक्रमण सबसे ज्यादा फैल रहा है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्लूएचओ ने इस पर चिंता जताई है. डब्लूएचओ का कहना है कि अमीर और विकसित देशों में तबाही मचाने के बाद कोरोना अब गरीब देशों में फैलना शुरू हो गया है. विकसित देश धीरे-धीरे इस महामारी पर काबू पा रहे हैं लेकिन जिस तरह से गरीब देशों में इस वायरस का प्रसार हुआ है वह चिंताजनक है. डब्लूएचओ ने भारत को लॉकडाउन में छूट न देने की सलाह दी है. उसका कहना है कि देश के जिन सात राज्यों में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है वहां लॉकडाउन में ढील न दी जाए.


सात राज्यों में कोरोना के ज्यादा मामले

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, तेलंगाना, चंडीगढ़, तमिलनाडु और बिहार में पिछले दो सप्ताह के दौरान कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है. अगर इस रफ्तार पर जल्द ब्रेक नहीं लगा तो हालात बेकाबू हो जाएंगे. इसके लिए जरूरी है कि इन राज्यों में प्रतिबंध जारी रखे जाएं. जिन राज्यों में 5 प्रतिशत से ज्यादा कोरोना के मामले हैं वहां लॉकडाउन को सख्त किया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – कोरोना वायरस का इलाज नहीं है तो फिर संक्रमित मरीज ठीक कैसे हो रहे हैं ?

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी दुनिया भर में कोरोना वायरस के आंकड़ों पर नजर रखती है. कोविड-19 महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका को लेकर इस यूनिवर्सिटी ने एक रिसर्च की है. इसके मुताबिक अमेरिका में केवल 50 प्रतिशत राज्यों से ही लॉकडाउन हटाया जा सकता है. इसी तरह भारत के 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में से 21 प्रतिशत इसी श्रेणी में आते हैं.

 

किस राज्य की क्या है स्थिति

ताजा आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में 18 प्रतिशत, गुजरात में 9 प्रतिशत, दिल्ली में 7 प्रतिशत, तेलंगाना में 7 प्रतिशत, चंडीगढ़ में 6 प्रतिशत, तमिलनाडु में 5 प्रतिशत और बिहार में 5 प्रतिशत कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है. डब्लूएचओ के मानकों के मुताबिक इन सभी राज्यों में कोरोना के ज्यादा मामले हैं. हालांकि डब्लूएचओ की यह सलाह पूरे राज्य पर लागू नहीं होती है. क्योंकि इन सभी राज्यों के कुछ शहर या जिलों में ही कोरोना के अधिक मामले हैं. ऐसे में सरकार हॉटस्पॉट इलाकों में लॉकडाउन को सख्ती से लागू कर सकती है.

Spread the love