हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, इन सबूतों को पढ़िए

न्यूज पैंट्री डेस्क : न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक़ सैकड़ों वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि हवा के छोटे कणों में मौजूद कोरोनावायस से भी लोग संक्रमित हो सकते हैं. वैज्ञानिकों ने कहा कि उन्हें इस बात के सबूत मिले हैं और उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन से इस बीमारी से जुड़े दिशा-निर्देशों को संशोधित करने की मांग की है.

ख़बर के मुताबिक शोधकर्ताओं ने WHO को एक खुला पत्र लिख कर ये आग्रह किया है. पत्र को अगले हफ़्ते किसी साइंस जर्नल में प्रकाशित करने की योजना है. इसमें 32 देशों के 239 वैज्ञानिक इस दावे से जुड़े के सबूत देंगें. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़ कोरोनो वायरस बीमारी मुख़्य रूप से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक छोटे ड्रॉपलेट से फैलता है जो छींकने या बोलने के दौरान मुंह से निकलते हैं.

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक़ वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि छींकने के बाद हवा में दूर तक जाने वाले बड़े ड्रॉपलेट या छोटे ड्रॉपलेट जो एक कमरे जितने क्षेत्र में फैल सकते हैं, उनमें मौजूद कोरोना वायरस लोगों को संक्रमित कर सकते हैं. हालांकि WHO ने न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए अपने बयान में कहा कि जो सबूत शोधकर्ताओं ने दिए हैं, वो काफ़ी नहीं हैं.

WHO के डॉ. बेनेडेटा अलेंग्रांज़ी ने न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा, “ख़ासतौर पर पिछले दो महीनों हमने कई बार कहा है कि हम इस बात पर विचार कर रहे हैं कि ये बीमारी हवा के माध्यम से फैल सकती है लेकिन इसे साबित करने के लिए कोई ठोस या स्पष्ट प्रमाण नहीं हैं.” न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक WHO ने इससे जुड़े उनके सवालों पर ख़बर लिखे जाने तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी.

Spread the love