बुरी खबर ! 31 जुलाई तक दिल्ली में होंगे 5.5 लाख कोरोना मरीज

न्यूज पैंट्री डेस्क : राजधानी दिल्ली में इन दिनों कोरोना वायरस की वजह से हालात बेकाबू होते नजर आ रहे हैं. पिछले चार दिन में ही यहां करीब 5 हजार नए मामले दर्ज हुए हैं. इस कड़ी में अब एक बुरी खबर आई है. माना जा रहा है कि 31 जुलाई तक अकेले दिल्ली में ही कोरोना वायरस संक्रमण के साढ़े पांच लाख मरीज होंगे. साथ ही गंभीर रूप से संक्रमित मरीजों के लिए कम से कम 80 हजार बेड्स की जरूरत होगी. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने यह जानकारी साझा की. 

राजधानी दिल्ली में कोरोना महामारी की स्थिति की समीक्षा करने के लिए राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक हुई थी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बीमार हैं इसलिए उनकी गैरमौजूदगी में डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया ने इस बैठक की अध्यक्षता की. बैठक के बाद मनीष सिसौदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में आने वाले दिनों में दिल्ली में संभावित कोरोना मरीजों की संख्या की जानकारी दी.


80 हजार बेड्स की होगी जरूरत

मनीष सिसौदिया ने कहा, “15 जून तक अकेले दिल्ली में 44 हज़ार कोरोना के मामले होने की संभावना है. इसके अलावा 15 जुलाई तक कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर क़रीब 2.25 लाख हो जाएगा. उस वक्त तक राजधानी में 33 हजार बेड्स की जरूरत पड़ेगी. 31 जुलाई तक दिल्ली में 5.50 लाख केस होंगे और मरीजों के लिए 80 हज़ार बेड्स की जरूरत होगी.”

इसे भी पढ़ें – LG ने दिल्ली सरकार को दिया दोहरा झटका, केजरीवाल बोले- भगवान की मर्जी है

इसके अलावा उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने एलजी के फैसले पलटने को लेकर भी अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली में कोरोना के मरीज बढ़ते हैं तो वे इलाज के लिए कहां जाएंगे. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कोविड-19 के ‘कम्युनिटी ट्रांसमिशन’ पर भी पत्रकारों को जानकारी दी.


दिल्ली में शुरू हुआ कम्युनिटी ट्रांसमिशन

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मंगलवार को कहा कि राजधानी में महामारी का कम्युनिटी ट्रांसमिशन शुरू हो गया है. हालंकि केंद्र सरकार को ही इसके बारे में घोषणा करने का फ़ैसला करना है. सत्येंद्र जैन ने कम्युनिटी ट्रांसमिशन के लिए एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि दिल्ली में कम्युनिटी ट्रांसमिशन शुरू हो गया है लेकिन केंद्र सरकार ने अभी तक ये बात स्वीकार नहीं की है. हम इसकी घोषणा नहीं कर सकते हैं, इसका फ़ैसला केंद्र सरकार को करना है.”

Spread the love