बाहर से मुफ्त इलाज कराने न आएं लोग इसलिए सील की दिल्ली की सीमाएं :केजरीवाल

न्यूज पैंट्री डेस्क : राजधानी दिल्ली में कोरोना महामारी घातक अवस्था में पहुंच गई है. हर दिन एक हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. महामारी के गंभीर खतरे को देखते हुए दिल्ली सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं. फिलहाल दिल्ली की सभी सीमाएं एक हफ्ते के लिए सील कर दी गई हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि सीमाओं को खोलने के लिए उन्होंने जनता से राय मांगी है.

सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में कोरोना की स्थिति को लेकर प्रेस वार्ता में जानकारी दी. इस दौरान उन्होंने लॉकडाउन 5.0 के दिशा-निर्देशों पर भी अपनी राय रखी. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. ऐेसे में हमने दिल्ली की सीमाओं को खोलने के लिए जनता से राय मांगी है.

दिल्ली में 9 हजार बेड रिजर्व

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना का इलाज मुफ्त में किया जा रहा है. ऐसे में अगर सीमाएं खोल दी गईं तो देश भर से लोग दिल्ली आ जाएंगे. अगर ऐसा हुआ तो दिल्लीवासियों के लिए मुश्किलें बढ़ जाएंगी. हमने दिल्ली के नागरिकों के लिए 9 हजार से अधिक बेड रिजर्व रखे हैं, बाहरी लोगों के आने से वे बेड तुरंत भर जाएंगे.

इसे भी पढ़ें – केजरीवाल सरकार के पास नहीं हैं सैलरी देने के भी पैसे, पीएम मोदी से मांगे 5 हजार करोड़

सीएम केजरीवाल ने कहा कि संकट की इस घड़ी में हम किसी को इलाज के लिए मना नहीं करेंगे. हालांकि, कुछ लोगों का मानना है कि जब तक महामारी का खतरा टल नहीं जाता, तब तक दिल्ली के लोगों के लिए बेड बचाकर रखे जाएं. इस सुझाव पर अमल करते हुए एक सप्ताह के लिए दिल्ली की सीमाएं सील की जा रही हैं. जनता से सलाह-मशविरा करने के बाद इस पर आगे फैसला लिया जाएगा.

जनता दे सकती है अपने सुझाव

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनता शुक्रवार शाम 5 बजे तक इस पर अपनी राय दे सकती है. इसके लिए व्हॉट्सऐप और ईमेल से अपनी राय भेजी जा सकती है. व्हॉट्सऐप नंबर 880-000-7722 या ईमेल [email protected] पर अपने सुझाव दे सकते हैं. अगर चाहें तो 1031 पर फोन कर अपना संदेश रिकॉर्ड करा सकते हैं.

Spread the love