क्या फ्रांस ने कोरोना के खिलाफ पहली लड़ाई जीत ली है?

न्यूज पैंट्री डेस्क : यूरोपीय महाद्वीप में कोरोना वायरस महामारी ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है. दुनिया के सबसे ज्यादा विकसित देशों वाले इस महाद्वीप में लाखों लोग कोरोना की मौत मारे गए और लाखों लोग संक्रमित हैं. पिछले कुछ दिनों से यहां संक्रमण की रफ्तार धीमी हुई है. इस बीच फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा है कि फ्रांस ने कोरोना के ख़िलाफ़ पहली लड़ाई जीत ली है. अब देश भर में कई तरह की पाबंदियां हटा ली जाएंगी.

फ्रांस में कोरोना महामारी शुरू होने के बाद से मैक्रों का यह चौथा राष्ट्र के नाम संबोधन था. इस दौरान उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी से निपटने की दिशा में हमने पहली जंग जीत ली है. अब वक्त आ गया है कि तीन महीने से चल रहे लंबे लॉकडाउन को हटाया जाए. अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने का यही सबसे सही वक्त है.


फ्रांस ने हटाई कई पाबंदियां

इमैनुअल मैक्रों ने अपने संबोधन के दौरान फ्रांस में कई पाबंदियों को हटाने का भी ऐलान किया. उन्होंने कहा कि फ्रांस यूरोपीय संघ के शेन्जेन जोन में शामिल पड़ोसी मुल्कों के लिए अपनी सीमाएं खोल रहा है. सोमवार से यह आदेश लागू हो जाएगा. राजधानी पेरिस में भी कई प्रतिबंधों में छूट दे दी गई है.

इसे भी पढ़ें- क्या भारत में फिर से टोटल लॉकडाउन होने वाला है ?

नए आदेशों के मुताबिक अब पेरिस में बार और रेस्त्रां खोलने की इजाजत दे दी गई है. सबसे बड़ा स्कूलों को लेकर लिया गया है. 22 जून से देश भर में स्कूलों को खोल दिया जाएगा. इसके लिए स्कूल मैनेजमेंट को सभी जरूरी तैयारी करने के निर्देश दिए गए हैं. राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि हम लोग उम्मीद करते हैं कि अब हम फिर से पहले जैसी जिंदगी जीना शुरू कर सकते हैं.


फ्रांस ने जीती कोरोना की पहली लड़ाई

मैक्रों ने कहा कि बेशक हम आम जिंदगी की तरफ लौट रहे हैं लेकिन हमें इस बात की भी खास ख्याल रखना होगा कि अभी कोरोना का संकट पूरी तरह टला नहीं है. यह वायरस लंबे समय तक हमारे बीच रहेगा इसलिए जरूरी है कि हम सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह पालन करें. अगर वायरस पहले से ज्यादा ताकतवर हो कर पलटा तो हमें उसके लिए अभी से तैयार रहने की जरूरत है. इस महामारी के खिलाफ जंग अभी खत्म नहीं हुई है लेकिन हमने पहली लड़ाई जीत ली है.

Spread the love