कोरोना संकट के बीच नहीं होगी हज यात्रा, अगर हुई तो कैसे होगी?

न्यूज पैंट्री डेस्क : समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार सऊदी अरब कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए हाजियों की संख्या में भारी कटौती करने पर विचार कर रहा है. इस साल जुलाई महीने के आख़िर में हज यात्रा शुरू होनी है. हर साल दुनिया भर के क़रीब 25 लाख मुसलमान हज के लिए सऊदी अरब के मक्का और मदीना जाते हैं. इस यात्रा से सऊदी अरब को हर साल 12 अरब डॉलर का राजस्व हासिल होता है.

सऊदी अरब ने मार्च महीने में दुनिया भर के मुसलमानों से कहा था कि वो अगले नोटिस तक हज यात्रा स्थगित रखें. रॉयटर्स के अनुसार अगर इस साल हज होता भी है तो प्रतीकात्मक होगा. इसके साथ ही ज़्यादा उम्र वालों के आने पर पाबंदी होगी और कड़ी स्वास्थ्य जांच भी होगी. कई अधिकारी अब भी इसे रद्द करने पर ज़ोर दे रहे हैं.

हालांकि हाल-फ़िलहाल में सऊदी अरब ने इस पर आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा है. हाजियों की संख्या में भारी कटौती पर सऊदी का मजबूर होना तेल की क़ीमतों में गिरावट के बाद दूसरा बड़ा आर्थिक झटका होगा. इसी साल मार्च महीने में सऊदी अरब ने अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवा बंद कर दी थी. जेद्दा में अब भी कर्फ़्यू है.

यहीं पर हाजियों की फ्लाइट लैंड करती है. कड़ी जांच प्रक्रिया के कारण कहा जा रहा है कि दुनिया भर के देशों को जितना कोटा मिलता है उसके 20 फ़ीसदी लोगों को ही हज के लिए वीज़ा मिल पाएगा. ऐसे भी दुनिया के कई देश ख़ुद से ही हज यात्रा पर अपने नागरिकों को जाने की अनुमति नहीं दे रहे हैं.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *