इमरान खान ने क्यों कहा कि भारत में लोग भूख और गरीबी से मर रहे हैं ?

न्यूज पैंट्री डेस्क : पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं. देश भर में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा एक लाख के करीब पहुंच गया है. पंजाब और खैबर पख्तूनख्वाह में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. इस बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने लॉकडाउन को लेकर बयान दिया है.

पाकिस्तान में जब से कोरोना महामारी फैली है तब से प्रधानमंत्री इमरान खान लॉकडाउन का पूरी तरह विरोध करते रहे हैं. एक बार फिर से उन्होंने लॉकडाउन के खिलाफ बयान दिया है. उन्होंने कहा कि मुल्क अब और लॉकडाउन बर्दाश्त नहीं कर सकता है. इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान आर्थिक मोर्चे पर पहले ही मुश्किलों का सामना कर रहा है. ऐसे में लॉकडाउन देश की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ देगा.

पाकिस्तान लॉकडाउन नहीं झेल सकता

इमरान ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण को रोकने के लिए पाकिस्तान में पहले ही लंबा लॉकडाउन किया जा चुका है. इसकी वजह से अब तक देश को 800 अरब रुपये का राजस्व घाटा हुआ है. उन्होंने कहा कि कोरोना को फैलने से नहीं रोक सकते हैं और न ही अब दोबारा लॉकडाउन लागू किया जा सकता है. किसी भी सूरत में मुल्क अब और तबाही बर्दाश्त नहीं कर सकता है.

इसे भी पढ़ें – क्या चीन के डर के कारण डोनाल्ड ट्रम्प बोले हम चीन के साथ काम करेंगे ?

इमरान खान ने कहा कि गरीब देशों में लॉकडाउन भारी तबाही मचाई है. उन्होंने कहा, “हमें पता था कि लॉकडाउन से दुनिया भर में गरीबी बढ़ेगी. पाबंदियों से लोगों की रोजी-रोटी पर संकट आ जाएगा. इसे ध्यान में रखते हुए अब दुनिया स्मार्ट लॉकडाउन की तरफ़ जा रही है.”


लॉकडाउन के कारण भारत में भूख से मर रहे लोग

इमरान ख़ान ने कहा कि लॉकडाउन के कारण अमेरिका जैसे अमीर देशों में लोग लाइन में खड़े होकर खाना ले रहे हैं. किसी ने नहीं सोचा था कि अमीर मुल्क के लोगों को भोजन के लाले पड़ जाएंगे. भारत में लोग भूख से मर रहे हैं. साधन न मिलने के कारण वहां लोग पैदल जा रहे हैं और रास्ते में ही दम तोड़ रहे हैं. हालांकि, इस बात का शुक्र है कि पाकिस्तान में उतना नुक़सान नहीं हुआ.

Spread the love