लॉकडाउन के बाद सभी मंदिर-मस्जिदों को खोलने वाला पहला राज्य बना बंगाल

न्यूज पैंट्री डेस्क : देश में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए दो लॉकडाउन लागू है. दो महीने से ज्यादा समय हो गया है लेकिन माना जा रहा है कि अभी लॉकडाउन हटने की संभावना कम है. अटकलें लगाई जा रही हैं कि बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए पांचवे दौर का लॉकडाउन किया जा सकता है. इस बीच पश्चिम बंगाल सरकार ने एक जून से मंदिर, मस्जिद, चर्च और गुरुद्वारों को खोलने का फैसला किया है.

पश्चिम बंगाल देश का पहला राज्य है जहां लॉकडाउन के बाद धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दी गई है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए इस बात का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि पहली जून से राज्य के तमाम धार्मिक स्थलों को शर्तों के साथ खोल दिया जाएगा. साथ ही 8 जून से प्राइवेट और सार्वजनिक क्षेत्रों में 100 प्रतिशत क्षमता के साथ काम शुरू हो जाएगा.


10 से ज्यादा लोगों को नहीं मिलेगा प्रवेश

ममता ने कहा राज्य में 1 जून से पूजा स्थलों को खोलने की अनुमति दे दी गई है. लेकिन वहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा. एक साथ 10 से ज्यादा लोगों को पूजा स्थल में जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी. साथ ही ऐसी जगहों पर भीड़ जुटने या कोई समारोह का आयोजन करने की अनुमति नहीं होगी.

इसे भी पढ़ें – अमित शाह से बोलीं ममता बनर्जी, कहा- ‘आइए आप ही संभाल लीजिए बंगाल’

ममता बनर्जी ने राज्य में कोरोना संकट और हाल ही में आए अंफान तूफान को लेकर एक हाइ लेवल मीटिंग की. ममता बनर्जी ने कहा कि बंगाल में पिछले दो महीनों के दौरान कोविड-19 संक्रमण को नियंत्रित करने में कामयाबी मिली है. लेकिन बाहर से आने वाले प्रवासियों के चलते नए मामले बढ़ रहे हैं.


उन्होंने कहा कि 8 जून से सभी प्राइवेट कंपनियों और ऑफिसों में सभी कर्मचारियों के साथ काम करने की छूट दे दी गई है. साथ ही कपड़ा और जूट जैसे उद्योगों को भी खोलने का फैसला लिया गया है.

Spread the love